पर्सनल लोन की सबसे अच्छी डील पाने के लिए शीर्ष 10 नियम

INDIA SAMACHAR

ब्याज दर

INDIA SAMACHAR

सबसे महत्वपूर्ण बिंदुओं में से एक, यह EMI और ऋण अवधि को प्रभावित कर सकता है, सबसे उपयुक्त विकल्प को समझने के लिए व्यक्तिगत EMI कैलकुलेटर का उपयोग करें.

लोन देनेवाली संस्था या बेंक का चयन 

INDIA SAMACHAR

हालांकि बैंक और एनबीएफसी कथित तौर पर कम ब्याज दरों की पेशकश कर सकते हैं, कुछ शर्तें अनुपयुक्त हो सकती हैं या विशिष्ट मानदंडों के कारण एक उधारकर्ता पात्र नहीं हो सकता है। इसलिए इन सभी तत्वों की पहले से जांच कर लें.

image: gittyimages

क्रेडिट स्कोर 

INDIA SAMACHAR

लोन देनेवाली कोई भी बेंक या संस्था लोन देने से पहले आवेदक का क्रेडिट स्कोर देखती है। क्रेडिट स्कोर से आवेदक की साख का पता  चलता है। काम क्रेडिट स्कोर मतलब लोन मिलेगा नहीं या लोन मिलने मे मुसकीलें आएंगी। 

image: gettyimages

Advance EMI देने से बचें 

INDIA SAMACHAR

Advance EMI प्रभावी रूप से बीजदारों को बढा देता है जिससे बताए गए ब्याजदारों से ज्यादा का भुगतान करना पड़ सकता है। 

image:gittyimages

शॉर्ट टर्म लोन अवधि का चुनाव करें 

INDIA SAMACHAR

कभी कभी लोग लालच मे लंबी अवधि के लोन EMI का चुनाव करते हैं।  लेकिन लंबी अवधि के चक्कर में लंबे समय तक लोग ज्यादा भुगतान करते हैं। 

समय पर EMI का भुगतान करें 

INDIA SAMACHAR

समय पर EMI का भुगतान करना यह सुनिश्चित करने के लिए आवश्यक है कि उधारकर्ता का क्रेडिट स्कोर प्रभावित न हो और वह देर से भुगतान दंड का भुगतान न करे। इसके अलावा, क्रेडिट स्कोर में एक प्रतिकूल टिप्पणी लाइन के कुछ समय बाद एक और ऋण स्वीकृत होने की संभावना में बाधा उत्पन्न कर सकती है।

विश्वसनीय बेंक या संस्था से ही लोन लें 

INDIA SAMACHAR

विविध बेंक्स या संस्थाओं की पात्रता मानदंड की जांच करें और उसके बाद ही किसी ऐसे बेंक या संस्था से संपर्क करें जो मानदंड को पूरा करता हो।

Foreclosure फीस 

INDIA SAMACHAR

कभी-कभी, उधारकर्ता लोन का पूर्व भुगतान करने की स्थिति में होते हैं। लेकिन अगर फोरक्लोज़र या प्रीपेमेंट शुल्क अधिक हैं, तो यह सार्थक नहीं है। लोन लेने से पहलेही पता करें की Foreclosure फीस  कितनी है। 

0% EMI स्कीम  

INDIA SAMACHAR

0% EMI स्कीम मे, उच्च फ़ाइल फीस और प्रोसेसिंग फीस खरीदारों को नहीं बताए जाते हैं या केवल अंतिम समय में उल्लेख किया जाता  है। इस प्रकार, उधारकर्ता बिना इसकी जानकारी के ब्याज का भुगतान करता है।