राम मंदिर भूमिपूजन के लिए मोहम्मद शरीफ को भी निमंत्रण

0
136
राम मंदिर भूमिपूजन के लिए मोहम्मद शरीफ को भी निमंत्रण

अयोध्या में, 5 अगस्त को, प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी श्री राम के जन्मस्थान पर एक भव्य मंदिर की आधारशिला रखेंगे। अयोध्या में ऐतिहासिक राम मंदिर के भूमिपूजन की तैयारी लगभग पूरी हो चुकी है। इसने प्रतिष्ठित लोगों को निमंत्रण भेजना शुरू कर दिया है। अतिथि सूची बहुत लोकप्रिय है। एक बाबरी मस्जिद के पूर्व वकील इकबाल अंसारी का नाम है। दूसरा नाम मोहम्मद शरीफ है। इकबाल अंसारी का नाम देश में लोकप्रिय है।

लेकिन मोहम्मद शरीफ कौन है?

पिछले साल उन्हें पद्म श्री से सम्मानित किया गया था पेशे से साइकिल मैकेनिक मोहम्मद शरीफ 80 वर्ष के हैं, जो अयोध्या के मोहम्मद अली बेग इलाके में रहते हैं। लोग उन्हें चाचा शरीफ कहते हैं। उन्हें पिछले साल पद्म श्री से सम्मानित किया गया था। शरीफ ने अब तक 25,000 से अधिक लावारिस शवों का अंतिम संस्कार किया है। लावारिस शवों को दफनाने के लिए कब्रिस्तानों के चक्कर लगाता है। अगर वे किसी कारण से नहीं पहुंच सकते , तो पुलिस,को इस के बारे मैं सूचित करते है । इस काम की पूरी लागत उनके द्वारा दी जाती है।यह काम 28 साल पहले शुरू हुआ था। शरीफ के मुताबिक, उनके चार बच्चे हैं और उनमें से दो की मौत हो चुकी है। उनका एक बेटा था, शरीफ। वह चिकित्सा क्षेत्र में शामिल था। वह सुल्तानपुर गया था। इस बीच वह गायब हो गया था। उस समय अयोध्या में विवादास्पद ढांचा ध्वस्त कर दिया गया था। जातीय दंगे फैल रहे थे। करीब एक महीने बाद उसका शव रेलवे ट्रैक पर मिला। वह दंगों का शिकार भी हुआ था। यह एक ऐसी घटना थी जिसने उनका जीवन बदल दिया। लावारिस शव के रूप में लड़के का अंतिम संस्कार किया गया। शरीफ ने तब जिले में लावारिस शवों के दाह संस्कार की जिम्मेदारी स्वीकार की थी। उन्होंने वित्तीय कठिनाइयों का सामना करने के बावजूद इस काम को जारी रखा है। इस काम के लिए लोग उन्हें दान भी करते हैं।

मुझे भूमिपूजन में जाने मैं कोई समस्या नहीं है ….मैं प्रधानमंत्री से मिलने के लिए इच्छुक

मोहम्मद शरीफ कहते हैं कि मैंने कभी भी हिंदुओं और मुसलमानों या किसी अन्य धर्म के बीच कोई भेदभाव नहीं किया है। इसलिए राम मंदिर के भूमिपूजन में शामिल होने में कोई समस्या नहीं है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का पद्मश्री के लिए मेरे जैसे व्यक्ति का चयन मेरे जीवन का सबसे बड़ा सम्मान है। अब जब प्रधानमंत्री मोदी अयोध्या आ रहे हैं, तो मैं उनसे मिलना चाहता हूं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here