Home स्वास्थ्य International Yoga Day 2022 | शरीर में ऑक्सीजन लेवल बढ़ाने के लिए...

International Yoga Day 2022 | शरीर में ऑक्सीजन लेवल बढ़ाने के लिए योग है महत्वपूर्ण, रोजाना करें ये 4 योगासन

File Photo

नई दिल्ली: योग मानव शरीर के लिए बहुत अहम भूमिका निभाता है। यह न केवल मानसिक संतुलन बनाए रखता है बल्कि हमारे स्वास्थ्य के लिए भी बहुत लाभदायक होता है। हम सब इस बता को जानते है कि जब पूरी दुनिया जब कोरोना से जंग लड़ रही थी, तब लोग ऑक्सीजन की कमी से मर रहे थे, तब योग के जरिए शरीर में ऑक्सीजन लेवल को सुधारने की कोशिश की जा रही थी, कई लोगों ने उस दौरान योग को अपनाया और अपने हालत में सुधार पाया।

आपको बता दें कि ऐसे कई योगासन हैं जो शरीर में ऑक्सीजन को बढ़ाते हैं।  देश के प्रधानमंत्री मोदी जी योग को वैश्विक स्तर पर लेकर गए है, जिसे आज विश्व भर में हर कोई अपना रहा है। आज हम आपको कुछ ऐसे योगासन और प्राणायाम बताने जा रहे है जो आपके शरीर में ऑक्सीजन का लेवल बढ़ता है, आइए जानते है, उन योगासन के बारे में…. 

इन योग से बढ़ेगा ऑक्सीजन लेवल

कपालभाति

ऑक्सीजन लेवल बढ़ाने के लिए सबसे पहले आज हम आपको कपालभारती प्राणायाम के बारे में बताने जा रहे है, जी हां आपको कपालभाति प्राणायाम भी करना चाहिए, ताकि आपका ऑक्सीजन लेवल कम न हों। इसके लिए सबसे पहले लंबी गहरी सांस अंदर लें। अब धीरे-धीरे सांस को बाहर छोड़ते जाएं। हालांकि कोरोना के मरीजों को इस बात का ध्यान रखना चाहिए कि सांस छोड़ते वक्त उन्हें किसी तरह का दबाव महसूस न हो। लेकिन अगर आप स्वस्थ है तो आम लोगों की तरह यह प्राणायाम कर सकते है। 

यह भी पढ़ें

अनुलोम विलोम

साथ ही अनुलोम विलोम भी ऑक्सीजन लेवल बढ़ाने के लिए मददगार साबिटी हो सकता है। शरीर में ऑक्सीजन लेवल सुधारने के लिए हमें अनुलोम विलोम करना चाहिए। अनुलोम विलोम में नाक के एक नथुने को दबाकर दूसरे नथुने से सांस छोड़ते हैं फिर जिससे सांस छोड़ी है उसी से वापस सांस लेनी है। इस तरह दोनों तरफ से यह क्रिया करते हैं। जानकारी के लिए आपको बता दें कि अनुलोम विलोम से टेंशन भी दूर होती है। 

साई

 दरअसल इस प्राणायाम में आपको पहले नाक के अंदर सांस भरनी है फिर ज्यादा से ज्यादा सांस को अंदर लेने के बाद सांस छोड़ते समय एक पाउट बनाना है। आपको होंठों को सिकोड़कर एक चोंच जैसी बनानी है, फिर थोड़ी सी ‘हा’ की आवाज के साथ सांस को बाहर छोड़ना है। इससे हमारी टेंशन दूर होती है।  इसे एक बार में 35 से 40 बार करना चाहिए। आप दिन में 5 से 6 बार इस योग को कर सकते हैं। इस प्राणायाम को रोजाना करने पर इसके सकारात्मक परिणाम आपको दिखाई देगा। 

प्रोनिंग

 आपको बता दें कि सांसों को ठीक रखने के लिए प्रोनिंग एक वैज्ञानिक तरीका है। एक्सपर्ट्स का कहना है कि अगर किसी का ऑक्सीजन लेवल घट रहा है तो हड़बड़ाहट में अस्पताल न भागें। घर पर पेट के बल लेटकर गहरी लंबी सांस ले आपको प्रोनिंग पोजीशनभद में लेटना है।  इससे फेफड़े सुचारू रूप से काम करने लगते हैं। थोड़ी-थोड़ी देर बाद आपको पेट के बल जरूर लेटना चाहिए, इससे आपके सांस लेने के प्रणाली में सुधार होगा। 

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here