नेपालमे बवाल ; ‘चिनी गो बॅक’ की नारेबाजी

नेपालमे बवाल ; ‘चिनी गो बॅक’ की नारेबाजी

करोना कि पार्श्वभूमी पर नेपाल में लॉकडाउन और अंतरराष्ट्रीय सीमा के सील के जाने के बाद मंगलवार को नेपाल में काम कर रहे चीनी मजदूर और नेपाल के स्थानीय नागरिकों में एक संघर्ष देखने को मिला।इस बीच नेपाली स्थानीय नागरिकों ने “चीनी गो बैक” के नारे भी लगाए।

नेपाल के नाम लामजुंग में जलविद्युत प्रकल्प का निर्माण किया जा रहा है।इस प्रकल्प पर काम करने वाले चीनी मजदूर और मर्सियांगडी स्थानिक लोगों के बीच संघर्ष हुआ। कोरोना कि पार्श्वभूमी पर जाने के नागरिकों लामजुंग जिले के मंगरंगी ग्रामीण नगरपालिका के थुलोबेसी स्थित न्यादी जलविद्युत प्रकल्प के लिए ले जा रही सामग्री के ट्रक को रोका।सभी चीनी मजदूर चीन से लौट रहे थे। कोरोना का प्रादुर्भाव पूरी दुनिया में चीन से ही फैलने के कारण स्थानीय नेपाली नागरिकों ने चीनी मजदूरों को गांव में प्रवेश करने से रोका।लेकिन चीन से लौट रहे दो ट्रकों ने सीमा बंद के लिए लगाए गए तारों को हटाकर गांव में प्रवेश करने की कोशिश करने से यहां के स्थानीय नागरिक और भी चिढ़ गए।इस वजह से दो गुटों में भारी संघर्ष देखने को मिला और स्थानीय नागरिकों ने “चीनी गो बैक” के नारे भी लगाए।

‘जब देश में प्रवेश पर प्रतिबंध लगाने के सरकारी आदेश का उल्लंघन किया गया, तो स्थानीय प्रशासन ने आपत्ति दर्ज कराई। लेकिन फिर, चीनियों ने हम पर हमला किया। उत्तेजित स्थानीय लोगों ने तब चीनी के खिलाफ विरोध जताया, “स्थानीय नागरिक करण थापा ने कहा। इस बीच, पुलिस ने दोनों पक्षों के साथ बैठक करके मामले को सुलझाने की कोशिश की।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here